systemhalted by Palak Mathur

कल मुसकरा कर फिर मिल जाएंगे

हर राह पर तकाज़ा करेंगे आपका, शायद कभी तो मिल ही जायेंगे,
आज जा रहें हैं रोते हुए, कल मुसकरा कर फिर मिल जाएंगे !!

Poetry   Hindi   हिन्दी