systemhalted by Palak Mathur

सब कुछ बेगाना हो गया है!!

धोका खाकर दिल बेसहारा हो गया है,
दुश्मन ना था कोई पर हर कोई अब रंजिश में हो गया है;
सोचता हूँ के क्या बुरा किया था मैंने,
की अपनों में ही सब कुछ बेगाना हो गया है!!

Poetry   Hindi   हिन्दी